समर्थक

Tuesday, 1 March 2022

गीत "शंकर! मन का मैल मिटाओ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
भोले-शंकर आओ-आओ।
निद्रा-तन्द्रा दूर भगाओ।।
--
आज आदमी है बेचारा,
बौराया है ये जग सारा,
दूषित है परिवेश हमारा,
हे शिव! आकर आज वतन में,
डमरू का तुम नाद सुनाओ।
निद्रा-तन्द्रा दूर भगाओ।।
--
छाया है घनघोर अँधेरा,
नकली भगवानों ने घेरा,
गड़े हुए हैं तम्बू-डेरा,
सच्चाई को करो उजागर,
ढोंग और पाखण्ड हटाओ।
निद्रा-तन्द्रा दूर भगाओ।।
--
जीवन आशामुखी नहीं है,
अपने दुख से दुखी नहीं है,
इसीलिए जग सुखी नहीं है,
सम्बन्धों में नहीं मधुरता,
शंकर! मन का मैल मिटाओ।
निद्रा-तन्द्रा दूर भगाओ।।
--
लुप्त हो गयी है खुद्दारी,
जन-गण-मन में है मक्कारी,
जगह-जगह पसरी गद्दारी,
देशभक्ति को जीवित कर दो,
खुदगर्ज़ी पर रोक लगाओ।
निद्रा-तन्द्रा दूर भगाओ।।
--
आज आपका अभिनन्दन है,
बेलपत्र-अक्षत-चन्दन है,
महादेव का ही वन्दन है,
अब सोया परिवेश जगाओ।
निद्रा-तन्द्रा दूर भगाओ।।
--

5 comments:

  1. शिवरात्र की मंगलकामनाएं।

    ReplyDelete
  2. सादर प्रणाम
    आपका अभिनन्दन है

    बेलपत्र-अक्षत-चन्दन है,
    महादेव का ही वन्दन है,

    –सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. सही है, शिव के डमरू का नाद हो तो अज्ञान की नींद से जागरण होगा, सुंदर रचना!

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन रचना।

    ReplyDelete
  5. आज आपका अभिनन्दन है,
    बेलपत्र-अक्षत-चन्दन है,
    महादेव का ही वन्दन है,
    बहुत बढ़िया....सुंदर शब्दों का चयन

    ReplyDelete